मध्यप्रदेश और राजस्थान के इन जिलों से निकलेगी नई रेल लाइन, देखिए क्या है प्रोजेक्ट की स्थिति

MP News – एमपी और राजस्थान वालों के लिए गुड न्यूज। एक रिपोर्ट के हवाले से ऐसा कहा जा रहा है कि एमपी में अगले साल तक एक नई रेल लाइन शुरू हो सकती है। मध्य प्रदेश में साल 2024 तक एक नई रेल लाइन शुरू हो सकती है। इस रेल लाइन का कार्य प्रारंभ हो चुका है. इसके शुरू होने से मध्यप्रदेश से राजस्थान सफर करने वाले लोगों का समय तो बचेगा ही, किराया भी कम होगा. भोपाल-रामगंजमंडी रेल लाइन प्रदेश की राजधानी भोपाल, राजगढ़ में श्यामपुर, दोराहा, ब्यावरा, नरसिंहगढ़, कुरावर, मुबारकगंज, निशातपुरा होते हुए गुजरेगी।

वर्तमान में यदि ब्यावरा से लोगों को भोपाल जाना है तो बस का सहारा लेना पड़ता है, जिसमें उनको परेशानी का सामना करना पड़ता है. बस से करीब 3 से साढ़े तीन घंटे का वक्त लग जाता है. नई रेल लाइन शुरू होने के बाद यह समय घट कर 1.5 घंटे हो जाएगा. साथ ही यह रेल लाइन राजगढ़ से खिलचीपुर होते हुए भोजपुर, घाटोली, इकलेरा, जूना खेड़ा, झालरापाटन से रामगंजमंडी जाएगी और यही वजह है कि इस रेल लाइन से राजस्थान के लोगों को भी फायदा पहुंचेगा।

किराया भी होगा कम

डीआरएम सौरभ बंदोपाध्याय ने बताया कि यदि अभी राजगढ़ के लोगों को भोपाल जाना होता है तो उनके 180 से 190 रुपये खर्च हो जाते हैं. साथ ही ब्यावरा के यात्रियों का भोपाल आने पर लगभग 150 रुपये खर्च होते हैं. इस रेल लाइन के शुरू हो जाने के बाद यात्रियों का किराया महज 70 से 80 रुपये ही लगेगा।

रेल लाइन के ये होंगे फायदे

मध्य प्रदेश से राजस्थान जाने में कम समय लगेगा।

  • रोजाना आने-जाने वाले यात्रियों को सुविधा हो जाएगी।
  • यात्रा आरामदायक हो सकेगी और किराया कम लगेगा।
  • लोकल उत्पादों को भी बढ़ावा मिलेगा।
  • सरकारी कार्यों से भोपाल जाने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों को राहत।
  • राजगढ़ का भोपाल से सीधे कनेक्शन हो जाएगा और सुविधाएं बढ़ेंगी।
  • राजगढ़ के युवाओं की पढ़ाई की राह आसान होगी।

प्रोजेक्ट की ये है स्थिति

  • भूमि अधिग्रहण का काम लगभग पूरा।
  • मप्र सीमा की ओर से अर्थ वर्क और ट्रैक के लिए खुदाई का काम शुरू।
  • राजगढ़ में स्टेशन के लिए कार्य हो रहा।
    -खिलचीपुर-ब्यावरा में राजस्थान की कंपनी ब्रिज बना रही।
  • नरसिंहगढ़ के जंगलों में लाइन का सर्वे कार्य दोबारा शुरू।
  • कुरावर-श्यामपुर के आस-पास भी खुदाई का काम शुरू।
  • सीहोर के हिस्से में कुछ जमीनों के मामले अटके, जिन पर काम जारी।
  • भोपाल में जमीन का काम पूरा, अतिक्रमण हटाने की प्रक्रिया शुरू।