किसान गेहूं की फसल की सिंचाई के समय साथ साथ चलाया करें यह खाद, कम खर्च में होंगी बंपर पैदावार 

किसी भी फसल से अच्छी पैदावार लेने के लिए 17 मुख्य पोषक तत्व में से 3 सबसे मुख्य पोषक तत्व होते है और इन तीनो तत्व आपकी फसल के लिए बहुत जरुरत होते है जो की (nitrogen, phosphorus, potash) नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटाश इन तीनो तत्व की हमारी फसल में बहुत जरुरत होती है इनके बिना हम किसी भी फसल से अच्छी पैदावार की कल्पना कर ही नहीं सकते है। किसान भाइयो इस बात का जरुर ध्यान रखे की हमेशा अपने खेत की मिटटी की जाँच करवाते रहे ताकि मिटटी में होने वाले पोषक तत्व की कमी को समझकर उसकी पूर्ति समय पर कर सके।‌

हमारे कृषि वैज्ञानिक भी हमेशा सलाह देते है की आप पोटाश और फास्फोरस को बिजाई के समय ही डाले बाद में यह अच्छे से काम नहीं करता है हम यहाँ पर 2 ही तरीके से खेती कर सकते है या तो हम फास्फोरस या पोटाश को ज्यादा मात्रा में दे, जिससे हम अपनी खेती में लागत बडाये अगर लागत को मेंटेन करके रखना चाहते है तो IFFCO कंपनी का NPK consortia को दे सकते है जिसमे कई सारे बेक्टेरिया होते है जिसका काम आपकी मिटटी में पड़े तत्व को आपके पौधों को उपलब्ध कराना होता है। 

NPK consortia को गेहूं की फसल में कैसे डाले

इस NPK की बोत्तल में हमें NPK वाले बेक्टेरिया मिल जाते है जिसे हम Azotobacter बोलते है इसके साथ फास्फोरस वाले बेक्टेरिया मिल जाते है जिसे हम PSB बोलते है और तीसरा पोटाश वाले बेक्टेरिया जिसे हम KMB बोलते है इसे हमें गेहूं की फसल में पहला पानी देते समय ही डालना चाहिए क्योकि इस समय गेहूं की फसल को फास्फोरस की सबसे ज्यादा जरुरत होती है।‌इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की जब भी किसान भाई गेहूं की फसल में फास्फोरस या पोटाश को कम मात्रा में डालते है या कई बार किसान का बजट नहीं बन पाता है या फिर मिटटी का ph मान ऊपर निचे होता है तो उस कंडीशन में यह NPK consortia काम आता है यह आपकी फसल की पैदावार को काफी हद तक बड़ा सकती है।‌

इस समय पर जितना जड़ो का विकास करा देंगे हमारे पौधे भी पोषक तत्व को अच्छी मात्रा में obtain कर पाएंगे, यहाँ पर नाइट्रोजन का भी सबसे ज्यादा महत्त्व होता है आपके कल्लो के साथ पौधे का ग्रोथ कराना ही नाइट्रोजन का काम होता है गेहूं के बीज के अंकुरण से लेकर दाने के पकने तक पोटाश का काम रहता है। NPK consortia का काम आपके खेत में स्थिर पोषक तत्व को सीधे पौधों को उपलब्ध कराना होता है चाहे वो पिछली फसल के हो या फिर काफी समय से मिटटी में मौजूद हो, उन्हें soluble बनाकर आपके पौधों को उपलब्ध कराना ही NPK consortia का काम होता है। 

NPK consortia को गेहूं की फसल में देना कैसे है

आप इसे 150 से 200 लीटर पानी में 1 या 1.5 kg गुड़ के साथ डाल सकते है और इसे ठण्ड के दिनों में केवल 8 दिन रोकना है 8 दिन के बाद यह activate या multiplay हो जाता है जिसे आप पहला पानी के साथ चला सकते हो। 

NPK consortia का price क्या है

इसका खर्चा भी बहुत कम है मात्र 60 रूपए की आधा लीटर की बोत्तल मिल जाती है यह 1 एकड़ खेत के लिए प्रयाप्त होती है। किसान भाई 60 रूपए खर्च करके अपनी गेहूं की फसल से अच्छी पैदावार ले सकते है NPK consortia को हमारे हिसाब से हर किसान को अपनी गेहूं की फसल में डालना चाहिए इसको आप पहले दुसरे और तीसरे पानी पर डाल सकते है लेकिन कोशिश करिए की इसे आपको पहले पानी पर ही डालना है क्योकि उस समय जड़ो और कल्लो का सबसे ज्यादा विकास हो रहा होता है।