Weather Today: अगस्त-सितंबर महिने में इन राज्यों और जिलों में होंगी इतनी बारिश, देखें मौसम रिपोर्ट

देश में मानसून 2023 सीजन का आधा सत्र बीत चुका है, इस दौरान यदि आँकड़ों की मानें तो देश में अब तक लगभग सामान्य बारिश हुई है, परन्तु देश के कई राज्य अभी भी सूखे की चपेट में हैं तो कई राज्यों में बहुत अधिक बारिश हुई है। इस बीच भारतीय मौसम विज्ञान विभाग IMD ने आधे बचे हुए मानसून (अगस्त से सितम्बर) के लिए वर्षा का पूर्वानुमान जारी कर दिया है। मौसम विभाग ने इन दो महीनों में सामान्य से कुछ कम वर्षा होने की उम्मीद जताई है।

मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण–पश्चिम मानसून सीजन, 2023 के बचे हुए आधे भाग जो कि अगस्त से सितम्बर है के दौरान रहेगा, पूरे देश में वर्षा दीर्घकालिक औसत LPA का 94 से 106 प्रतिशत तक होने की संभावना है, जो की सामान्य से नकारात्मक पक्ष की ओर है। इस दौरान हिमालय से सटे क्षेत्रों, पूर्व मध्य भारत और पूर्व और उत्तर–पूर्व भारत के कुछ हिस्सों में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक वर्षा हो सकती है। वहीं प्रायद्वीपीय भारत के अधिकांश हिस्सों ओर उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के पश्चिमी हिस्सों में सामान्य से नीचे वर्षा होने की संभावना है।

अगस्त महीने में कैसी बारिश होगी?

पूरे देश में अगस्त 2023 के दौरान वर्षा सामान्य से कम दीर्घकालिक औसत LPA का 94 फीसदी होने का अनुमान है। वर्ष 1971-2020 के आँकड़ों के आधार पर पूरे देश में अगस्त की बारिश का एलपीए 254.9 मिमी है। अगस्त महीने में हिमालय से सटे उपखंडों के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी मध्य भारत और पूर्व तथा उत्तर–पूर्व भारत के कुछ क्षेत्रों में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक वर्षा होने की संभावना है। वहीं दक्षिणी प्रायद्वीपीय के अधिकांश हिस्सों और उत्तर पश्चिम और मध्य भारत के पश्चिमी हिस्सों के कई क्षेत्रों में सामान्य से नीचे वर्षा होने की संभावना है।

मौसम विभाग की मानें तो इस दौरान चित्र में नीले रंगो से दर्शाये गये क्षेत्रों पूर्वी मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा के कुछ क्षेत्र, झारखंड, पश्चिमी बंगाल के कुछ हिस्सों, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक बारिश हो सकती है। वहीं चित्र में पीले एवं लाल रंगों से दर्शाये गए क्षेत्रों केरल, तमिलनाडु, कर्नाटक, आन्ध्रप्रदेश, तेलंगाना, पश्चिमी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र के कुछ हिस्से, गुजरात, पश्चिमी राजस्थान, पंजाब एवं हरियाणा के कुछ हिस्से, हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्से, अरुणाचल प्रदेश एवं असम के कुछ क्षेत्रों में सामान्य से कम बारिश होने की संभावना है।

अगस्त और सितम्बर महीने में कैसी होगी वर्षा

वहीं पूरे देश में मानसून के दूसरे हिस्से में दीर्घकालिक औसत LPA का 94 से 106 फ़ीसदी बारिश होने का अनुमान है, जिसमें सामान्य से कम वर्षा होने की अधिक उम्मीद है। वर्ष 1971-2020 के आँकड़ों के आधार पर पूरे देश में अगस्त+सितम्बर की बारिश का एलपीए 422.8 मिमी है। इस दौरान हिमालय से सटे उपखंडों के अधिकांश हिस्सों, पूर्वी मध्य भारत और पूर्व तथा उत्तर–पूर्व भारत के कुछ क्षेत्रों में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक वर्षा होने की संभावना है। हालाँकि प्रायद्वीपीय भारत के अधिकांश क्षेत्रों और उत्तर–पश्चिम और मध्य भारत के पश्चिमी हिस्सों में सामान्य से नीचे वर्षा होने की संभावना है।

भारत मौसम विभाग के द्वारा जारी पूर्वानुमान के अनुसार अगस्त से सितम्बर महीने में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, उड़ीसा के कुछ क्षेत्रों, उत्तराखण्ड के कुछ हिस्सों, मिज़ोरम में सामान्य से लेकर सामान्य से अधिक वर्षा हो सकती है जैसे की चित्र में नीले रंग से दिखाया गया है। वहीं इस दौरान केरल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान राज्यों के अधिकांश क्षेत्रों में सामान्य से कम वर्षा होने की संभावना है। जैसा की चित्र में पीले रंग से दिखाया गया है।

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love