Kisan Credit Card: डेढ़ करोड़ किसानों के बनाएं जाएंगे केसीसी, आसानी से मिलेगा लोन

किसानों को खेती-किसानी के कई कामों के लिए ऋण की आवश्यकता होती है। स्थानीय स्तर पर साहूकारों से ऋण लेना किसान को महंगा पड़ता है। गांव में साहूकारों द्वारा किसानों को ऊंची ब्याज दर पर पैसा उधार दिया जाता है जो किसान के लिए चुकाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में सरकार की ओर से किसानों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड योजना चलाई गई है। इस योजना के माध्यम से किसानों को सस्ता ऋण उपलब्ध कराया जाता है ताकि वह खेती के लिए बीज, खाद, कीटनाशक, ट्रैक्टर व अन्य कृषि मशीन की खरीद कर सकें। किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Kisan Credit Card Scheme) के तहत किसानों को सरकार की तरफ से यह क्रेडिट कार्ड (Credit Card) उपलब्ध कराया जाता है। इससे किसान अपनी खेती से जुड़ी सभी आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं। अभी भी बहुत से किसान ऐसे हैं जिनके पास क्रेडिट कार्ड नहीं है जिससे उन्हें सस्ता लोन (loan) नहीं मिल पा रहा है। ऐसे किसानों की सुविधा के लिए सरकार की ओर से इन्हें क्रेडिट कार्ड (Credit Card) दिए जाने का निर्णय लिया गया है ताकि उन्हें आसानी से बैंक से ऋण उपलब्ध हो सके। इस साल सरकार ने 1.5 करोड़ किसानों को क्रेडिट कार्ड (Credit Card) उपलब्ध कराने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इच्छुक किसान इसके लिए आवेदन करके क्रेडिट कार्ड बनाकर योजना का लाभ उठा सकते हैं।

केसीसी (KCC) के लिए कब से लगेगा शिविर


केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने केसीसी घर-घर अभियान की शुरुआत की है। इसका लक्ष्य देश के प्रत्येक किसान तक केसीसी का लाभ पहुंचाना है। जिन किसानों के पास अब तक केसीसी (KCC) की सुविधा नहीं है उन्हें इससे जोड़ने के लिए सरकार की ओर केसीसी अभियान चलाया जा रहा है। यह केसीसी अभियान (KCC campaign) एक अक्टूबर से शुरू किया जाएगा जो 31 दिसंबर 2023 तक जारी रहेगा। अभियान के तहत यह सुनिश्चित किया जाएगा कि बिना किसी परेशानी के किसानों को आसानी से केसीसी (KCC) की सुविधा उपलब्ध हो सके।

किन किसानों को दिए जाएंगे केसीसी (KCC)

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से मौजूदा केसीसी (KCC) खाताधारकों के डेटा को पीएम किसान डेटाबेस के साथ सत्यापित किया है। इसमें उन खाता धारकों की पहचान की गई है जो पीएम किसान डेटाबेस से मेल खाते हैं। इसके बावजूद अभी तक उन्हें केसीसी (KCC) की सुविधा नहीं मिल पाई है। इस अभियान के तहत ऐसे किसानों को क्रेडिट कार्ड की सुविधा प्रदान की जाएगी जो पीएम किसान योजना (PM Kisan Yojana) के लिए पात्र हैं और उन्हें अभी तक क्रेडिट कार्ड नहीं मिला है। ऐसे किसानों की संख्या 1.5 करोड़ बताई जा रही है। बता दें कि केंद्र सरकार ने अधिक से अधिक किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Kisan Credit Card yojana) का लाभ देने के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Yojana) के लाभार्थियों को केसीसी (KCC) देने के लिए विशेष अभियान की शुरुआत की थी। इसमें करीब 2 करोड़ किसानों को क्रेडिट कार्ड प्रदान किए गए थे।

केसीसी (KCC) से किसानों को क्या मिलेगी सुविधाएं/लाभ

  • किसान क्रेडिट कार्ड योजना (Kisan Credit Card yojana) के तहत मिलने वाले केसीसी (KCC) से किसान अपनी फसलों के लिए अल्पकालीन और सावधि ऋण ले सकते हैं।
  • केसीसी (KCC) कार्ड धारकों को व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा के तहत मृत्यु और स्थाई विकलांगता पर 50,000 रुपए तक का बीमा कवर प्रदान किया जाता है। वहीं अन्य जोखिमों के लिए 25,000 रुपए तक कवर मिलता है।
    केसीसी से किसान मवेशियों, पंप सेट, भूमि विकास, वृक्षारोपण, ड्रिप सिंचाई यंत्र आदि की खरीद के लिए सावधि ऋण ले सकते हैं।
  • कितनी अवधि के लिए बनाया जाता है केसीसी
    किसान क्रेडिट कार्ड (Kisan Credit Card yojana) की वैधता अवधि पांच वर्ष निर्धारित की गई है। इसे तीन और सालों के लिए बढ़ाने का विकल्प भी मिलता है। ऐसे में आप केसीसी (KCC) का लाभ आठ साल तक बिना किसी परेशानी के बैंक से ऋण लेने के लिए कर सकते हैं।

केसीसी से कितना मिल सकता है ऋण

किसान क्रेडिट कार्ड (Kisan Credit Card) पर किसान अधिकतम 3 लाख रुपए का ऋण ले सकते हैं। प्रथम बार में बैंक की ओर से किसान को 50,000 रुपए का लोन दिया जाता है। यदि किसान समय पर लोन चुका देते हैं तो उन्हें बाद में अधिक राशि का लोन स्वीकृत किया जाता है। हालांकि बैंक इस संबंध में ग्राहक की पुरानी बैंक डिटेल और रिकार्ड चेक करते हैं जिसमें यदि आपका ऋण बकाया नहीं होता है तो बैंक तुरंत ऋण स्वीकृत करते हैं। वहीं आपका पिछला बैंक रिकार्ड सही नहीं है तो बैंक आपको ऋण देने में आनाकानी कर सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड से लिए गए ऋण पर कितना लगता है ब्याज

आम तौर पर किसानों के लिए बैंक की वास्तविक ऋण ब्याज दर 9 प्रतिशत होती है। लेकिन सरकार की ओर से सहकारी समितियों को 2 प्रतिशत छूट दी जाती है। इस तरह सहकारी समिति के माध्यम से यह लोन 7 प्रतिशत ब्याज दर पर किसान को उपलब्ध हो जाता है। यदि किसान समय पर ऋण चुका देते हैं तो उसे सरकार की ओर से ब्याज पर 3 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है। ऐसे में किसानों को यह ऋण मात्र 4 प्रतिशत की बहुत ही कम ब्याज दर पर उपलब्ध हो जाता है।

किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने के लिए किन दस्तावेजों की होगी आवश्यकता

आवेदन करने वाले किसान का आधार कार्ड
आवेदन करने वाले किसान का वोटर आईडी कार्ड
आवेदक का ड्राइविंग लाइसेंस
आवेदक का पासपोर्ट
किसान की जमीन के कागज
किसी और बैंक में कर्जदार नहीं होने का एफिडेविट

किसान क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाएं/केसीसी के लिए कैसे करें आवेदन

किसान क्रेडिट कार्ड (Kisan Credit Card) के लिए आप किसी भी सहकारी बैंक में आवेदन कर सकते हैं जहां आपको खाता हो। इसके लिए आपको बैंक जाकर केसीसी के लिए आवेदन फॉर्म लेना होगा। इसके बाद उस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारी को ठीक से भरना होगा। पूर्ण रूप से भरे गए फॉर्म के साथ सभी आवश्यक दस्तावेजों की कॉपी अटैच करें और इसी बैंक में जमा करा दें जहां से आपने केसीसी के लिए आवेदन फॉर्म लिया है। वहीं आप बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर केसीसी के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर भी इसके लिए आवेदन किया जा सकता है।