Kisan News: इस बार प्याज को संभाल कर रखे किसान, क्षैत्रफल घट गया और देखें पूरी रिपोर्ट » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

Kisan News: इस बार प्याज को संभाल कर रखे किसान, क्षैत्रफल घट गया और देखें पूरी रिपोर्ट

5/5 - (1 vote)

Kisan News: प्याज की खेती कम होने से उचित भाव नहीं मिल पा रहा है। इसके अलावा, भंडारण के दौरान पर्यावरण के कारण खराब होने की दर अधिक होती है। इसके अलावा हर साल बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्याज को नुकसान होता है, इसलिए इस साल किसानों का प्याज की खेती के प्रति रुझान कम है। किसानों ने कहा कि बीजों की मांग कम होने से कीमत 500 रुपये और कुछ दिनों के बाद 200 रुपये से 300 रुपये तक आने की संभावना है। खली भाऊ चेंज इस साल प्याज का रकबा घट रहा है और इससे प्याज के बीच की मांग भी घट गई है। पिछले साल जहां प्याज के बीज की कीमत 2000 रुपए प्रति किलो थी वही अब वह घटकर ₹500 किलो रह गई है।

Kisan News: इस साल अब प्याज को संभाल कर रखने का समय आ गया है। इस साल प्याज की बुवाई सिर्फ 500 हेक्टेयर में होने की संभावना है। जाहिर है इस साल बीजों की मांग में कमी आई है। इससे निर्माताओं को भारी नुकसान होने की आशंका है। खेती कम होने से प्याज का अपेक्षित भाव नहीं मिल पा रहा है। इसके अलावा, भंडारण के दौरान पर्यावरण के कारण खराब होने की दर अधिक होती है। इसके अलावा हर साल बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि के कारण किसान इस साल प्याज की बुआई कम कर रहे हैं।

Kisan News: पिछले साल प्याज उत्पादकों और उपभोक्ताओं को भी प्याज की अपेक्षित कीमत नहीं मिली थी. भंडारण में प्याज के खराब होने की दर अधिक होने से किसानों को भारी नुकसान हुआ है।हालांकि देखा जा रहा है कि शुरुआती दौर में व्यापारियों को जमीन के भाव पर प्याज खरीदकर दाम बढ़ने पर बेचने से व्यापारियों को काफी मुनाफा हो रहा है। उसकी तुलना में निर्माताओं को झटका लगा है।

like to read :- PM Kisan Yojana: इस गलती से नहीं मिली 12वी किस्म, ऐसे करें सुधार और प्राप्त करें अपनी किस्त

Kisan News: क्या मिलेगा मुआवजा खराब मौसम और बारिश से प्याज के पौधे को काफी नुकसान हुआ है। दाम गिरने से किसानों के पास बीज पड़े हैं। इस प्रकार प्याज उत्पादकों को भारी नुकसान होने के कारण सरकार मुआवजे की मांग कर रही है। जिले में प्याज की खेती का रकबा भी कम हुआ है, आमतौर पर हर साल डेढ़ से दो हजार हेक्टेयर में प्याज की खेती होती है। इसकी तुलना में इस साल 500 से 800 हेक्टेयर में इसकी बुवाई होने की संभावना है। प्याज का अपेक्षित मूल्य नहीं मिलने समेत अन्य कारणों से रकबा घट रहा है। किसानों को भी बाजार पर ध्यान देना चाहिए।

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svg
Google News 
Join Now
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *