Kisan News: पालक की पैदावार बढ़ाने के लिए किसान इन कारकों का रखें ध्यान, पालक की होगी बंपर पैदावार

Picsart 22 11 21 07 12 52 047
Palak ki kheti kese kare

Kisan News: पालक की खेती करने वाले अधिकांश किसान पतझड़ और वसंत मौसम के बाद खेत में सीधे पालक के बीज की बुवाई करते हैं। इसके बाद विशेष रूप से, प्रसंस्करण बाजार के लिए पालक उगाते समय, ज्यादातर व्यावसायिक किसान पौधों को कम कर देते हैं (वे कुछ पौधों को खेत से हटा देते हैं, ताकि कम पौधे बचे रहें और बेहतर वायु संचार हो सके)। ज्यादातर मामलों में खाद, स्प्रिंकलर सिंचाई और कीट प्रबंधन का प्रयोग किया जाता है।

Kisan News: पालक की पैदावार बढ़ाने के लिए किसान इन कारकों का रखें ध्यान, पालक की होगी बंपर पैदावार

Kisan News: कटाई का समय इस बात पर निर्भर करता है कि हम पालक को ताज़े बाजार के लिए उगा रहे हैं या प्रसंस्करण बाजार के लिए। कई मामलों में, ताज़ा बाजार के लिए उगाये जाने वाले पालक के पौधों को बीज लगाने के लगभग 40-55 दिनों में ही एक बार में काट दिया जाता है (पूरा पौधा नष्ट हो जाता है)। इसके विपरीत, प्रसंस्करण बाजार के लिए उगाये जाने वाले पालक के पत्तों को बीजारोपण के लगभग 60-80 दिनों में काटा जाता है। कई मामलों में, पहली बार कटाई करने के बाद दोनों ताज़ा और संसाधित पौधों (लेकिन ज्यादातर प्रसंस्करण बाजार वाले पौधों को) को दोबारा बढ़ने के लिए छोड़ दिया जाता है ताकि किसान दूसरी बार फसल की कटाई कर सकें।

Kisan News:-Kisan News: कम खर्च में अधिक पैदावार के लिए ऐसे करें जौ की खेती, बाजार में मिलेगा इतना भाव

पालक की अच्छी पैदावार के लिए किसान इन कारकों का रखें ध्यान:-

• बीजारोपण की दर: प्रति हेक्टेयर 40 से 60 पाउंड (20 से 30 किग्रा) बीज।
• बीजों का अंकुरण 41-68 °F (5 से 20 °C) तापमान में बेहतर होगा।
• पालक के बीजों को हल्की मिट्टी से ढंकते हुए ½ से 1 इंच (1 से 2,5 सेमी) की गहराई में लगाने की आवश्यकता होती है।
• पौधों के बीच दूरी: पंक्तियों के बीच 7-11 इंच (20-30 सेमी) दूरी और पंक्ति में पौधों के बीच 3-6 इंच (7-15 सेमी) की दूरी होनी चाहिए।
• पालक के बीज बोने के तुरंत बाद किसान खेत की सिंचाई कर देते हैं।
• पालक के साथ अक्सर कोई दूसरा पौधा भी लगाया जाता है। किसान पालक के पौधों की पंक्तियों के बीच दूसरे पौधे लगा सकते हैं। जिसके लिए अक्सर गोभी, प्याज और सेलरी का प्रयोग किया जाता है।

आज के मंदसौर मंडी भाव ( Mandsaur Mandi bhav today )

• पौधों में पत्ती की बेहतरीन सतह को प्रोत्साहित करने के लिए, पौधों को पतला किया जाता है। प्रसंस्करण बाजार के लिए पालक उगाते समय, यह सबसे सामान्य तौर पर प्रयोग की जाने वाली तकनीक है।
• पालक की फसल में नियमित लेकिन ज्यादा पानी न देने से मिट्टी नम बनी रहती है।
• जंगली घास के प्रबंधन को अनदेखा नहीं किया जा सकता। जंगली घास न केवल पालक को मिलने वाले पोषक तत्वों और सूरज की रोशनी के लिए उनके साथ मुकाबला करते हैं, बल्कि उनके बीच उचित वायु संचार भी रोकती है, जिससे पौधों को बीमारी लगने की ज्यादा संभावना होती है।
• किसान स्वस्थ और उच्च गुणवत्ता वाले पालक उगाने के लिए उचित योजना बनाने के लिए स्थानीय पेशेवरों (लाइसेंस प्राप्त कृषि विशेषज्ञों) से सलाह ले सकते हैं।

Kisan News:- अलसी की खेती:- अलसी की आधुनिक खेती के लिए भूमि चुनाव, तैयारी एवं भूमि उपचार के तरीके देखिए

Leave a Comment