Kisan News: मूली की अधिक पैदावार के लिए सर्वश्रेष्ठ किस्में, पैदावार और विशेषताएं भी देखें » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

Kisan News: मूली की अधिक पैदावार के लिए सर्वश्रेष्ठ किस्में, पैदावार और विशेषताएं भी देखें

5/5 - (1 vote)

Kisan News: सब्जियों में मूली की खेती आसान और फायदेमंद होने की वजह से अधिकांश किसानों द्वारा मूली सब्जी की खेती की जाती है। हालांकि कई किसानों के मूली की खेती सफल नहीं हो पाती है, क्योंकि वह किसान मूली की उन्नत किस्में और वैज्ञानिक सलाह नहीं लेते हैं। आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से मूली की उन्नत किस्में और पैदावार की जानकारी प्रदान करेंगे। अगर आप भी मूली की अच्छी पैदावार करना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Kisan News: मूली की अधिक पैदावार के लिए सर्वश्रेष्ठ किस्में, पैदावार और विशेषताएं भी देखें

Japanese white: मूली की यह किस्म नवंबर-दिसंबर महीने में बोने के लिए अनुकूल है। इसे भारत में जापान द्वारा लाया गया है। उत्तरी मैदानों में इसकी पिछेती बिजाई के लिए और पहाड़ी क्षेत्रों में जुलाई से सितंबर महीने में इसकी खेती के लिए सिफारिश की गई है। इसकी जड़ें बेलनाकार और सफेद रंग की होती हैं। इसकी औसतन पैदावार 160 क्विंटल प्रति एकड़ होती है।

Pusa chetki: मूली की यह किस्म अप्रैल-अगस्त में बोने के लिए अनुकूल है। यह जल्दी पकने वाली किस्म है, और पंजाब में खेती करने के लिए अनुकूल है। इसकी जड़ें नर्म, बर्फ जैसी सफेद और मध्यम लंबी होती है। इसकी औसतन पैदावार 105 क्विंटल प्रति एकड़ और बीज 4.5 क्विंटल प्रति एकड़ होते हैं।

Pusa Himani: मूली की यह किस्म की बिजाई जनवरी-फरवरी महीने में शाम के समय करें| इसकी जड़ें सफेद और शिखर से हरी होती हैं| यह बिजाई के बाद 60-65 दिनों में कटाई के लिए तैयार होती हैं| इसकी औसतन पैदावार 160 क्विंटल प्रति एकड़ होती है|

Punjab Pasand: मूली की यह किस्म की बिजाई मार्च के दूसरे पखवाड़े में शाम के समय करें| यह जल्दी पकने वाली किस्म है, यह बिजाई के बाद 45 दिनों में कटाई के लिए तैयार होती हैं| इसकी जड़ें लम्बी, रंग में सफेद और बालों रहित होती है| इसकी बिजाई मुख्य मौसम और बे-मौसम में भी की जा सकती है| मुख्य मौसम में, इसकी औसतन पैदावार 215 क्विंटल प्रति एकड़ और बे-मौसम में 140 क्विंटल प्रति एकड़ होती है।

Punjab Safed Mooli-2: मूली की यह किस्म 60 दिनों में पक जाती है और इसकी औसतन पैदावार 236 क्विंटल प्रति एकड़ होती है।

Pusa Deshi: मूली की यह किस्म उत्तरी मैदानों में बोने के लिए अनुकूल हैं। इसकी जड़ें सफेद रंग की होती हैं। यह किस्म बिजाई के बाद 50-55 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है।

आज के इंदौर मंडी भाव ( Indore Mandi Bhav Today )

Pusa Reshmi: मूली की यह किस्म अगेती बिजाई के लिए अनुकूल है। यह 50-60 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है।

Arka Nishant: मूली की यह किस्म लंबी और गुलाबी जड़ों वाली किस्म है। यह किस्म 50-55 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती हैं।

Rapid Red White Tipped:मूली की यह जल्दी पकने वाली यूरोपियन किस्म है। यह 25-30 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती हैं। इसकी जड़ें छोटी और चमकदार लाल रंग के साथ सफेद रंग का गुद्दा होता है।

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love