गर्मी के दिनों में मूंगफली की खेती को आधुनिक रूप से करके बढ़ाएं अपनी आय को दोगुना

Moongfali ki kheti: गर्मी के सीजन में इस तरीके से करे मूंगफली की खेती, होंगी अंधाधुंध कमाई, जाने डिटेल भारत तो एक कृषि प्रधान देश है यहां की 75 आबादी के लोग किसानी करते है। आजकल के किसान कम समय में अधिक मुनाफा कमाने के लिए अलग अलग तरीको से खेती करते है।अब आप जानते ही है की गर्मी शुरू हो गयी है, ऐसे में वो किसान भाई जिनके पास पर्याप्त पानी की सुविधा है वो तीसरी फसल लेने के बारे में सोच रहे है तो आपको गर्मी के इस मौसम में मूंगफली की खेती करना चहिये जो आपको अच्छा मुनाफा दे सकती है।

जायद सीजन में करे मूंगफली की खेती

images 2023 03 28T155224.324

गर्मी के इस सीजन में अगर आपके पास पर्याप्त मात्रा में पानी है तो आप मूंगफली की खेती कर बंपर पैदावार ले सकते है रबी फसल की कटाई के बाद मार्च महीने के अंत में आप इसकी बुवाई कर सकते है गर्मी में इसका उत्पादन करकेआप तगड़ा लाभ ले सकते है

मूंगफली की खेती के लिए उपयुक्त भूमि

अगर आप भी अपने खेत मूंगफली की बुवाई करे है तो इसके लिए आपकी भूमि का पी.एच. मान लगभग 6 से 7 के बीच होना चाहिए। बुलई दोमट मिटटी में मूंगफली का उत्पादन सबसे अधिक होता है। गहरी काली मिट्टी में मूंगफली की बुवाई नहीं करना चाहिए यदि आप मूंगफली की बुवाई करना चाहते है तो गर्मी के मार्च महीने ने अंत तक कर सकते हो।

बेहतरीन किस्म

download 2023 03 28T155157.803

अगर आप इस गर्मी में मूंगफली की खेती करना चाहते है तो आपको इसकी उन्नत किस्म को चुनना चाहिए। जायद सीजन में मूंगफली बुवाई की कुछ प्रमुख प्रजातियां जीजी-20, टीजी-37 ए, टीपीजी-41, जीजी-6, डीएच-86, जीजेजी-9 इन प्रमुख किस्मो को किसान भाई गर्मी के मौसम में बुवाई कर सकते है।

गर्मी के सीजन में इस तरीके से करे मूंगफली की खेती, होंगी अंधाधुंध कमाई, जाने डिटेल

समय समय पर करे सिंचाई

गर्मियों के दिनों में आप मुंगफली की सिंचाई 5-6 बार कर सकते हैं। आप जब रबी की फसल की कटाई कर लें तो फिर खेत की जुताई कर एक बार पलावा कर इसे बो दें। अंकुरण के लगभग 12 से 15 दिन के उपरांत आप इसकी पहली सिंचाई कर सकते हैं। वहीं दूसरी सिंचाई 25 से 30, तीसरी 40 से 45, चौथी 55 से 60, पांचवी 60 से 65 एवं छठी 70 से 80 दिनों के अंतराल में करें। और इस तरह आपकी फसल पककर तैयार हो जाएगी।

उत्पादन को बढ़ाने के लिए खाद एवं उर्वरक

download 2023 03 28T155202.435

मूंगफली की अच्छी उपज के लिए खेत में 50 क्विंटल प्रति हेक्टेयर के हिसाब से गोबर की खाद का प्रयोग करें। इसके साथ ही रासायनिक उर्वरकNPK 20:60:20 किग्रा प्रति हेक्टेयर पर्याप्त होता है। इनके साथ जमीं में जिनक की कमी को पूरा करने के लिए 25 कि.ग्रा. प्रति हेक्टेयर जिंक सल्फेट का उपयोग करने से होगी बंपर पैदावार।

तीन महीने में फसल पककर तैयार हो जाएगी

गर्मियों के सीजन में बोई जाने वाली मूंगफली की फसल की तीन महीने में पककर तैयार हो जाती है। जब इसके पत्तियों का रंग पीला पड जाये तब आप इसकी खुदाई करे एवं तबतक इसके अंदर परियों का एनिन का कलर भी उड़ जाए। वही जब बीज के ऊपर भाग रंगीन हो जाए तो आप खेत की सिंचाई कर फलियों को पौधों से अलग कर लें। खुदाई के बाद आप इनको गीली भी बाजार में बेच सकते है इससे आपको अच्छा दाम मिलेगा और बेहतर कमाई होगी।

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now