किसान समाचार: मत्स्य पालन व पशुपालन कर रहे किसानों को सरकार जारी करेंगी क्रेडिट कार्ड,यह मिलेंगे लाभ

किसान क्रेडिट कार्ड योजना क्या है:किसान क्रेडिट कार्ड (KCC) योजना 1998 में भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) और नेशनल बैंक फॉर एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (NABARD) द्वारा किसानों को उनकी कृषि जरूरतों के लिए समय पर और सस्ती लोन प्रदान करने के लिए शुरू की गई एक सरकारी पहल है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना लाभ: इस योजना के तहत, किसानों को एक क्रेडिट कार्ड जारी किया जाता है, जिसका उपयोग वे अपने कृषि कार्यों के लिए आवश्यक बीज, उर्वरक, कीटनाशक और अन्य इनपुट खरीदने के लिए कर सकते हैं। यह एक परिक्रामी लोन सुविधा है, जिसका अर्थ है कि किसान जब भी जरूरत हो कार्ड से पैसे निकाल सकते हैं और अपनी सुविधा के अनुसार राशि चुका सकते हैं।

Kisan Credit Card new policy: सरकार ने सार्वजनिक बैंकों को निर्देश दिया कि वे पशुपालन और मत्स्य पालन क्षेत्रों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड जारी करना सुनिश्चित करें। अब किसानों की खेती के अलावा भी पशुपालन व मत्स्यपालन से आय बड़ेगी। सरकार द्वारा पशुपालन और मत्स्य पालन क्षेत्रों में भी केसीसी के माध्यम से किसानों को लोन दिया जायेगा। इसी प्रकार सरकार खेती के अलावा भी पशुपालन और मत्स्य पालन को भी बड़ावा दे रही है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना का उद्देश्य

किसानों को आसानी से लोन उपलब्ध कराना, लोन के अनौपचारिक स्रोतों पर उनकी निर्भरता कम करना और छोटे व सीमांत किसानों को लाभ पहुंचना और कृषि उत्पादकता को बढ़ाना है। यह योजना किसानों को फसल खराब होने, प्राकृतिक आपदाओं, या किसान की मृत्यु या विकलांगता जैसी अप्रत्याशित घटनाओं के लिए बीमा कवरेज भी प्रदान करती है।