Kisan Buzut 2023: गन्ना उत्पादन करने वाले किसानों के लिए बजट में की गई नई घोषणाएं, देखें खबर

3.5/5 - (6 votes)

Kisan buzut: उत्तर प्रदेश बजट 2023: यूपी वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने आज बुधवार 22 फरवरी को वित्त वर्ष 2023-24 के लिए 6.90 लाख करोड़ का बजट प्रस्तुत किया । यूपी की योगी सरकार ने आज के इस बजट में 32,721.96 करोड़ रुपये की नई योजनाएं सम्मिलित की हैं। कुल प्राप्तियां 6,83,292.74 करोड़ रुपये अनुमानित हैं। राजकोषीय घाटा 84,883.16 करोड़ रुपये अनुमानित है जो वर्ष के लिये अनुमानित सकल राज्य घरेलू उत्पाद का 3.48 फीसदि है। आज के बजट सत्र के दौरान वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने गन्ना किसानों के लिए अनेक महत्वपूर्ण घोषणायें की जो कि निम्नलिखित प्रकार से है।

उत्तर प्रदेश के गन्ना उत्पादक किसानों की लिए हुई ये घोषणायें

हमारी सरकार द्वारा प्रदेश के लगभग 46 लाख 22 हजार गन्ना किसानों को वर्ष 2017 से अब तक 1,96,000 करोड़ रुपये से अधिक का रिकार्ड गन्ना मूल्य भुगतान कराया गया, जो वर्ष 2012 से 2017 तक की अवधि में किये गये कुल गन्ना मूल्य भुगतान 95,125 करोड़ रूपये से 86,728 करोड़ रूपये अधिक है। गन्ना उत्पादकता में 1,00,875 टन प्रति हेक्टेयर की वृद्धि किसानों की आय में औसतन 349 रुपये प्रति कुन्तल की दर से 34,656 रुपये प्रति हेक्टेयर की वृद्धि हुई है। इसके अतिरिक्त, गन्ने के साथ अंतःफसली खेती से कृषकों को लगभग 25 प्रतिशत की अतिरिक्त आय हुई।

यूपी बजट 2023 गन्ना किसानों के लिए हुई बड़ी घोषणा: वित्त मंत्री सुरेश खन्ना बजट में कहा

चीनी उद्योग, उत्तर प्रदेश का कृषि आधारित महत्वपूर्ण उद्योग है तथा प्रदेश के लगभग 46 लाख 22 हज़ार गन्ना आपूर्तिकर्ता किसानों के परिवार की आजीविका का मुख्य आधार है।
पेराई सत्र 2021-22 में प्रदेश में 27.60 लाख हेक्टेयर में गन्ने की खेती की गई तथा 120 चीनी मिलों द्वारा 1016 लाख टन गन्ने की पेराई कर 101.98 लाख टन चीनी का उत्पादन किया गया। वर्तमान पेराई सत्र 2022-23 में 117 चीनी मिलों का संचालन हुआ है एवं इस सत्र में प्रदेश का गन्ना क्षेत्रफल 28. 53 लाख हेक्टेयर है, जिससे चीनी का उत्पादन 105 लाख टन से अधिक होने का अनुमान है।

वर्तमान सरकार द्वारा कृषकों को गन्ना मूल्य भुगतान समय से सुनिश्चित कराने हेतु वर्ष 2017 से एस्क्रो अकाउण्ट मैकेनिज्म प्रारम्भ किया गया है जिससे गन्ना मूल्य खाता केवल मिल प्रतिनिधि के स्थान पर अब मिल प्रतिनिधि एवं जिला गन्ना अधिकारी तथा ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक के संयुक्त हस्ताक्षर से संचालित किया जा रहा हैं।
चीनी मिलों द्वारा गन्ना मूल्य मद की धनराशि के व्यावर्तन पर पूर्ण अंकुश लगा हैं। विगत पांच वर्षों में 27,531 हेक्टेयर गन्ना खेती में ड्रिप इरीगेशन संयंत्र की स्थापना हुई है। इससे 50 प्रतिशत तक सिंचाई जल की बचत होगी।सिंचाई जल के साथ पोषक तत्वों के प्रयोग से 50 प्रतिशत रासायनिक उतरकों की बचत होगी साथ ही ड्रिप इरीगेशन के माध्यम से क्षारयुक्त और अल्प वर्षों वाले क्षेत्रों में भी गन्ने की खेती सम्भव हो सकेगी।

  social whatsapp circle 512
WhatsApp Group
Join Now
2503px Google News icon.svg
Google News 
Join Now
Spread the love