Kisan News : काजू की खेती कर कमाए लाखों आसानी से जानिए कैसे करें शुरू

Kisan news: जैसा कि आप सभी जानते ही हैं काजू एक ड्राई फूड जोकि काफी ज्यादा डिमांड में रहता है बच्चे से लेकर बूढ़े तक इसे खाते हैं क्योंकि इसे काफी एनर्जी टिक और पोस्टिक माना जाता है और इसी के कारण इसकी मार्केट में डिमांड भी काफी ज्यादा है और वैसे भी इसकी कीमत अधिक है आइए किसान भाइयों देखते हैं इसकी खेती कैसे होती है और किस प्रकार से काजू की खेती की जाती है

काजू की खेती सूखे मेवे के रूप में बहुत ही प्रसिद्ध है इसका पेड़ होता है और इस पेड़ की लंबाई 15 मीटर के लगभग होती है इसके पेड़ पर फल तैयार होने में लगभग 3 साल लगते हैं 3 साल के बाद यह फल देने की तैयार होता है काजू का इस्तेमाल तो आप सभी जानते ही हैं लेकिन इसके छिलके का भी इस्तेमाल होता है इसके छिलके का मुख्य रूप से पैंट तथा लुब्रिकेंट को तैयार किया जाता है इसीलिए इस खेती को काफी ज्यादा मुनाफे दार माना जाता है काजू की खेती के लिए गर्म तापमान बहुत ही अच्छा रहता है यदि इसके तापमान की डिग्री में बात करें तो 20 से 35 डिग्री के बीच में होना चाहिए और इसको किसी भी मिट्टी में उगाया जा सकता है सिर्फ मिट्टी उपजाऊ होनी चाहिए और यदि अच्छी मिट्टी की बात करें तो इसके लिए सबसे अच्छी मिट्टी लाल बलुई दोमट मिट्टी मानी जाती है

अभी कहां काजू की खेती होती है

यदि भारत की बात करें तो काजू की खेती का 25 फ़ीसदी हिस्सा भारत में होता है और मुख्य रूप से भारत के केरल महाराष्ट्र गोवा कर्नाटक तमिलनाडु आंध्र प्रदेश उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में होता है और अब धीरे-धीरे झारखंड तथा उत्तर प्रदेश में भी कई जगहों पर इसकी खेती प्रारंभ हो चुकी है

काजू की खेती में कितनी होती है कमाई

काजू की खेती करने के लिए काजू के पौधों को एक बार लगाना पड़ता है जिसके बाद यह कई सालों तक फल देते हैं यदि बात करें पेड़ों की तो एक हेक्टर में 500 पेड़ लगाए जा सकते हैं और यह अनुमान माना जाता है कि एक पेड़ से 20 किलो काजू का उत्पादन हो जाता है यानी 1 हेक्टर से 10 टन काजू की पैदावार हो जाती है इसके बाद इसको साफ सफाई की कार्य में खर्च आता है और उसके बाद यह बाजार में बिकने के लिए तैयार होता है बाजार में इसकी कीमत 1200 रुपए किलो बिकता है और इसी अनुसार इसकी खेती में बहुत अधिक मुनाफा होता है हालांकि इसकी खेती में आपको सावधानियां जरूर बरतनी होगी

Leave a Comment