काजू की खेती किसानों को दे सकती है लाखों का मुनाफा, देखिए कैसे, कब और कहां होती है काजू की खेती

Business Idea: भारत में कुल काजू के उत्पादन का 25 फीसदी हिस्सा भारत में होता है। इसकी खेती केरल, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में होती है। काजू के हर पेड़ से 8 से 10 किलोग्राम नट्स मिलते हैं। जिन्हें बेचकर 12,000 रुपए की आमदनी हो जाती है। काजू की पैकेजिंग और प्रोसेसिंग करके किसान काफी अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं

Business Idea: अगर आप कोई ऐसा बिजनेस करने की तलाश में हैं। जिसमें घाटा लगने के चांस कम हों और बंपर कमाई हो, तो हम आपको एक ऐसा बिजनेस आइडिया दे रहे है। जिसकी बाजार में जबरदस्त डिमांड है। यह एक ऐसा प्रोडक्ट है, जिसे, सर्दी, गर्मी बारिश हर मौसम में खाया जाता है। इसके अलावा इसे बच्चों से लेकर बूढ़े तक सभी बड़े चाव से खाते हैं। इतना ही नहीं इस प्रोडक्ट की डिमांड गांव से शहरों तक हमेशा जोरदार बनी रहती है। हम बात कर रहे हैं काजू की खेती (Cashew Farming) के बारे में। देश में कुछ समय से खेती में कई तरह के बदलाव आए हैं।

अब देश के किसान पारंपरागत खेती छोड़कर नकदी फसल पर ज्यादा जोर दे रहे हैं। सरकार भी अपने स्तर से किसानों को लगातार जागरूक बना रही है। इसके पेड़ लगाकर किसान अच्छी कमाई कर सकते हैं।

काजू को सूखे मेवे के रूप में बहुत ही लोकप्रिया माना जाता है। इसका पेड़ होता है। पेड़ की लंबाई 14 मीटर से लेकर 15 मीटर या इससे ज्यादा भी हो सकती है। फल देने के लिए इसके पौधे 3 साल में तैयार हो जाते हैं। काजू के अलावा इसके छिलकों का भी इस्तेमाल होता है। छिलकों से पेंट और लुब्रिकेंट्स को तैयार किया जाता है। लिहाजा इसकी खेती काफी फायदेमंद मानी जाती है। काजू का पौधा गर्म तापमान पर अच्छी तरह से ग्रो करता है। इसकी खेती के लिए उपयुक्त तापमान 20 से 35 डिग्री के बीच होता है। इसके अलावा, इसे किसी भी प्रकार की मिट्टी पर उगाया जा सकता है। फिर भी इसके लिए लाल बलुई दोमट मिट्टी बेहतर मानी जाती है।

कहां होती हैं खेती

काजू के कुल उत्पादन का 25 फीसदी हिस्सा भारत से आता है। इसकी खेती केरल, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तामिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में ठीक-ठाक स्तर पर की जाती है। हालांकि, अब इसकी खेती झारखंड और उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भी की जाने लगी है।

कितनी होगी काजू से कमाई?

काजू के पौधे एक बार लगाने के बाद कई सालों तक इसमें फल आते हैं। पौधों को लगाने के समय खर्च आता है। एक हेक्टेयर में काजू के 500 पेड़ लगाए जा में सकते हैं। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, एक पेड़ से 20 किलो काजू मिल जाता है। इसमें एक हेक्टेयर में 10 टन काजू की पैदावार होती है। इसके बाद प्रोसेसिंग में खर्च आता है। बाजार में काजू 1200 रुपये किलो बिकता है। ऐसे में आप अधिक संख्या में पौधे लगाने पर लखपति ही नहीं बल्कि करोड़पति बन जाएंगे।