Hop Shoots Farming: 85 हजार रुपए प्रति किलो बिकती है यह सब्जी, लाखों की कमाई आसानी से करें » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

Hop Shoots Farming: 85 हजार रुपए प्रति किलो बिकती है यह सब्जी, लाखों की कमाई आसानी से करें

Rate this post
citra hops 1600x d40e0a3f 8071 42cd be3c 0b92ed458383 1 1
Hop Shoots Vegitable image

Hop Shoots Vegetable Farming: आपको सुनकर विश्वास नहीं होगा कि कोई सब्जी 85 हजार रुपए किलो तक भी बिक सकती है। हां लेकिन हॉप शूट्स नाम की सब्जी 85 हजार रुपए प्रति किलो बिकती है। आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से इस सब्जी से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी और इस सब्जी की खेती कर लाखों की कमाई करने वाले किसान का उदाहरण भी बताएंगे। अगर आप भी हॉप शूट्स सब्जी की खेती से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Hop Shoots Farming: बिहार के औरंगाबाद के रहने वाले अमरेश सिंह हॉप शूट्स नाम की सब्जी उगाते हैं, जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत ₹85000 प्रति किलो है। देश में पहली बार बिहार के इस युवक ने हॉप शूट की खेती करने का साहस दिखाया है। 39 वर्षीय अमरेश सिंह औरंगाबाद के करमडीह गांव के रहने वाले हैं।करीब ढाई लाख रुपए निवेश कर उन्होंने हॉप शूट की खेती शुरू की है। हॉप शूट अंतरराष्ट्रीय सब्जी बाजार में बेचे जाते हैं। अमरेश सिंह ने कहा, ‘मैं बहुत खुश हूं कि हॉप शूट की खेती में पहली बार मुझे 60 फीसदी से ज्यादा सफलता मिली है। इसके बाद से अमरेश सिंह की सफलता की चर्चा होने लगी है।

Hop Shoots Farming: हॉप शूट वास्तव में उत्तरी अमेरिका और यूरोप में उगाई जाने वाली सब्जी है। इसका उपयोग कैंसर रोग के उपचार में किया जाता है। इसके साथ ही बीयर बनाने वाली कंपनियां हॉप शूट का इस्तेमाल करती हैं। हॉप शूट्स का इस्तेमाल बीयर में झाग डालने के लिए किया जाता है। हॉप शूट के प्रयोग से बियर में झाग और सुगंध आती है। बीयर में हॉप शूट्स का इस्तेमाल बढ़ने के बाद दुनिया के कई देशों में बड़े पैमाने पर इसकी खेती होने लगी है। इसके फूलों का उपयोग बियर बनाने में तथा इसकी टहनियों का प्रयोग खाने में किया जाता है।

हॉप शूट्स सब्जी की खेती: हॉप शूट से भी अचार बनाया जाता है। यह शरीर में मौजूद एंटीबॉडी की मात्रा को बढ़ाता है, जिससे शरीर की गंभीर बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। कहा जाता है कि हॉप शूट खाने से शरीफा जवान हो जाता है और त्वचा चमकदार हो जाती है। हॉप शूट अनिद्रा और तनाव से भी राहत दिलाता है। हॉप शूट की जड़ 2-3 मीटर तक गहरी होती है। इसे बहुत उपजाऊ और नम और धूप वाले स्थान पर लगाया जाता है। हॉप शूट एक सब्जी है, जो शंकु के आकार की होती है। इसके फल इसकी पंखुड़ियों की लचीली परतों से बने होते हैं।

Hop Shoots Farming: पके होने पर हॉप शूट का यह फूल लगभग 2 सेंटीमीटर लंबा होता है। इसके फूल को कोन कहते हैं। हॉप शूट की सब्जी का स्वाद बहुत कड़वा होता है, इसकी टहनियों का इस्तेमाल सलाद के रूप में किया जाता है। भारत में हिमाचल प्रदेश के ठंडे क्षेत्र लाहौल स्पीति में लगभग 40 वर्षों तक हॉप शूट की खेती की जाती थी, लेकिन बाजार में फसल की सही कीमत नहीं मिलने के कारण किसानों ने इसकी खेती से दूरी बना ली।अमरेश सिंह ने अपनी 5 कट्ठा जमीन में हॉप शूट की खेती शुरू कर दी है। हॉप शूट भारतीय बाजार में तभी उपलब्ध होते हैं, जब इसकी खास डिमांड होती है। हॉप शूट का इस्तेमाल टीबी जैसी बीमारी के इलाज में भी किया जाता है।

Source By – lalluram .com

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *