Kisan News: ग्वार के दाम इस बार दोहरा सकते हैं इतिहास, देखिए कहां तक जाएंगे ग्वार के भाव » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

Kisan News: ग्वार के दाम इस बार दोहरा सकते हैं इतिहास, देखिए कहां तक जाएंगे ग्वार के भाव

2.6/5 - (5 votes)

Kisan News: इस बार ग्वार के दाम ऊंचाइयां छूते जा रहे हैं और पिछले कई सालों के रिकॉर्ड भी तोड़ रहे हैं। इस बार संभावना जताई जा रही है कि ग्वार के भाव फिर से नया इतिहास बना सकते हैं। किसी भी प्रकार की फसल हो, जब किसी कारणवश सरकार के स्टाक में किसी भी प्रकार की फसल की कमी आ जाती है या उस फसल का उत्पादन कम होता है, तो ऐसी स्थिति में उस फसल की मांग बढ़ जाती है और अचानक उसकी कीमतों में भारी उछाल देखने को मिलता है। ऐसी ही स्थिति इस बार ग्वार के दामों में हमें देखने को मिल रही है। इस बार के हालात बता रहे हैं और बाजार की रीति नीति भी यही साबित कर रही है कि इस बार गवार के भाव इतिहास रच सकते हैं।

ग्वार के भाव: इस बार ग्वार की कीमतें इतनी तेजी से बढ़ रही है कि ग्वार के इतने भाव पिछले 10 सालों में किसानों को नहीं मिले हैं। ग्वार में इतने भाव 10 साल पहले आए थे और इस बार ऐसा लग रहा है कि ग्वार के भाव 10 साल के बाद दोबारा इतिहास दोहराने जा रहे हैं। फसल की मांग और उत्पादन को देखते हुए ग्वार के भाव रिकॉर्ड भी तोड़ सकते हैं। आज से 10 साल पहले किसानों ग्वार के भावों ने मालामाल कर दिया था। ग्वार के दाम 30 हजार रुपये प्रति क्विंटल को भी दस साल पहले पार कर गये थे। जिसके बारे में किसानों ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि ग्वार की फसल उनको मालामाल कर देगी।

Gwar Rate report Today: ग्वार के दामों में कितनी उछाल आने का कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ग्वार गम में आए किसानों को जमीन से उठाकर आसमां पर बिठा दिया था। ग्वार के भाव अचानक इतने बढ़ने के बाद किसानों को उम्मीद थी कि ग्वार की फसल उन्हें अच्छा खासा मुनाफा प्रदान कर सकती है लेकिन पिछले कुछ सालों से ग्वार के दामों में अचानक गिरावट देखने को मिली और ऊंचाइयां छू रहे ग्वार के दाम अचानक से नीचे गिर गए। ग्वार के दामों में 10 साल पहले जैसी स्थिति इस बार फिर हमें देखने को मिली है। हालांकि फसल का उत्पादन अधिक होने के कारण 10 साल पहले जैसी स्थिति नहीं देखने को मिलेगी लेकिन इस बार ग्वार के भावों में उछाल देखने को मिल रहा है।

Kisan News: ग्वार का कैरीओवर (स्टॉक) भी कम पड़ा है। बता दें कि इस फसल को पूरी तरह से परिपक्व होने में बरसात की आवश्यकता होती है। बरसाती पानी की वजह से ही इस फसल की फलियां खेतों में इठलाती रहती हैं लेकिन इस बार समय पर बरसात न होने से फलियां पूरी तरह से वयस्क नहीं हो पाईं। इस वजह से उत्पादन भी कमजोर हो गया। उत्पादन की इसी कमी से भविष्य में ग्वार के भावों में उछाल आने की संभावना जताई जा रही है। किसानों, व्यापारियों व जानकारों की माने तो स्टॉक कम की वजह से ग्वार के दाम आठ से दस हजार रुपये प्रति क्विंटल तक पहुंच सकते है।

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love