Kisan News: सरकार ने किसानों के लिए GM सरसों की खेती को दी मंजूरी, जल्द पढ़ें…. » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

Kisan News: सरकार ने किसानों के लिए GM सरसों की खेती को दी मंजूरी, जल्द पढ़ें….

5/5 - (2 votes)
Picsart 22 11 01 09 11 30 908
genetically modified mustard

Kisan News: सरकार द्वारा किसानों के लिए खुशखबरी आई है, भारत देश में करीब 20 साल बाद सरकार द्वारा पहली जेनेटिकली मोडिफाइड (GM) फसल सरसों के एनवायरमेंटल रिलीज को मंजूरी करने की सिफारिश कर दी गई है। जेनेटिकली मोडिफाइड फसल सरसों भारतीय कृषि क्षेत्र में पहली फसल है, जिसकी खेती के लिए सरकार द्वारा अनुमति दी गई है। इसको लेकर दिल्ली यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर डॉ. दीपक पेंटल द्वारा विकसित जीएम सरसों (GM Mustard) की किस्म धारा मस्टर्ड हाइब्रिड -11 (डीएमएच-11) किस्म के लिए यह मंजूरी दी गई है।

Kisan News: सरकार ने किसानों के लिए GM सरसों की खेती को दी मंजूरी, जल्द पढ़ें….

GM Mustard News: जेनेटिक इंजीनियरिंग अप्रैजल कमेटी (Genetic Engineering Appraisal Committee- GEAC) की 18 अक्टूबर, 2022 को हुई 147वीं बैठक में इसकी सिफारिश की गई है। बैठक के बाद ही सरकार ने जेनेटिकली मॉडिफाइड सरसो को खेती के लिए मंजूरी दे दी थी। हालांकि सरसों की इस किस्म को फिलहाल चालू रबी सीजन में बुवाई नहीं कर सकते हैं, क्योंकि फिलहाल सरसों की बुवाई लगभग पूरी हो चुकी है। जीईएसी की सिफारिशों को सरकार की मंजूरी मिलने के बाद ही इसे उगाना संभव हो पाएगा।

यह भी पढ़ें:- रतलाम मंडी में 14001 रूपए प्रति क्विंटल बिका नया प्याज, किसान को माला पहनाकर हुई नीलामी, देखें विडियो

Kisan News: जीईएसी ने सरसों की जिस डीएमस-11 हाइब्रिड किस्म के इनवायरमेंटल रिलीज की बैठक में बात की थी उसे उसे दिल्ली यूनिवर्सिटी के साउथ दिल्ली कैंपस स्थित सेंटर फॉर जेनेटिक मैनिपुलेशन ऑफ क्रॉप प्लांट्स (सीजीएमसीपी) द्वारा विकसित किया गया है। इसको बनाने में ट्रांसजनिक सरसों हाइब्रिड डीएमएच-11 में पैरेंटल लाइन बीएन 3.6 और एमओबीए 2.99 बारनेस, बारस्टार और बार जीन का उपयोग किया गया है। अब इसकी खेती किसान आसानी से कर सकते हैं।

Kisan News: जानकारी के अनुसार जीएईसी की सिफारिशों को केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री की सहमति के बाद ही जारी किया जाता है। इसलिए यह माना जा रहा है कि पर्यावरण मंत्री जीईएसी के जीएम सरसों की किस्म के जारी सिफारिशों से सहमत हैंं और इसलिए इन सिफारिशों को सरकार की मंजूरी मिलने की संभावना काफी अधिक हो जाती है। वर्ष 2010 की शुरुआत में जीईएसी की सिफारिशों को ही अंतिम मंजूरी माना जाता था लेकिन उसके बाद से इन सिफारिशों को जारी करने के पहले संबंधित मंत्री की सहमति लेने का प्रावधान कर दिया गया था।

यह भी देखें:- प्रधानमंत्री किसान योजना की 13वी किस्त जारी कब होगी, देखें तारिख और अपना नाम

Kisan News: जीईएसी की सिफारिशों को सरकारी मंजूरी मिलने के बाद GM Mustard की इस किस्म को बिना किसी कंट्रोल्ड एनवायरमेंट के उगाया जा सकेगा।यह फैसला भी बैठक के दौरान लिया गया है। इसके लिए पॉलिनेटर और दूसरे प्रभावों की निगरानी की जरूरत पड़ सकती है। इसके लिए आंकड़े भी एकत्रित किए जाएंगे। GM Mustard की खेती को मंजूरी मिलने के बाद बताया जा रहा है कि यह एक स्टेंडर्ड प्रक्रिया है ,और अब इस किस्म का बीज तैयार किया जा सकेगा। निगरानी का काम भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) को दिया गया है।

आज के नीमच मंडी भाव (neemuch Mandi Bhav Today)

 
social whatsapp circle 512WhatsApp Group
Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love