पशुपालकों के लिए खुशखबरी: ज्यादा से ज्यादा दूध देने वाली भैंस क्लोनिंग तकनीक से होगी पैदा,क्या रहेगा भैस का नाम

वैज्ञानिकों ने भी पशुओं की नस्ल के सुधार के लिए कई तकनीकें विकसित की हैं, जो उत्पादकता को बढ़ाने में मदद करेंगी। राष्ट्रीय डेयरी अनुसंधान संस्थान (NDRI Karnal) ने आईवीएफ क्लोनिंग तकनीक के द्वारा सबसे ज्यादा दूध उत्पादन वाली मुर्रा भैंस के दो क्लोन पैदा किए हैं, जो दूध उत्पादन में सुधार लाने में मदद करेंगे।

नस्ल सुधार कार्यक्रम चलाए जा रहे

देश में दूध उत्पादन के बढ़ते मांग को ध्यान में रखते हुए, पशुपालन योजनाएं (Animal Husbandry Schemes) शुरू की जा रही हैं, जिससे किसानों को और उनके पशुओं को तकनीकी और आर्थिक सहायता मिल रही है। नस्ल सुधार कार्यक्रमों द्वारा पशुओं की बेहतर नस्ल उत्पन्न करने के लिए राज्यों में ऐसे कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं, जो देश के दूध उत्पादन में सुधार करने में मदद करेंगे।

दूध उत्पादन क्षमता बड़ाई जा सकेगी

NDRI करनाल ने आईवीएफ क्लोनिंग तकनीक (IVF Cloning Technique) का उपयोग कर मुर्रा भैंस के उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के प्रयास में सफलता हासिल की है। मध्य प्रदेश का पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम भी इस तकनीक को लागू करके पशु उत्पादकता को बढ़ाने की योजना बना रहा है।इस प्रोजेक्ट को भोपाल के मदरबुल फार्म की आईवीएफ लैब (IVF Lab) से संचालित किया जाएगा। इस तकनीक का उपयोग करके गाय-भैंस की नस्ल सुधार किया जाएगा और इससे पशु उत्पादकता में वृद्धि हो सकती है।

क्लोनिंग तकनीक से पैदा हुआ गाय का बछड़ा

मध्य प्रदेश में एक आईवीएफ लैब में गाय का बच्चा जन्म हुआ है, यह पहली बार हुआ है जब पशुओं की नस्ल सुधार के लिए आईवीएफ क्लोनिंग तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। इसके पहले होल्सटीन फ्रीजियन प्रजाति (Holstein Friesian breed) की गाय के बच्चे को एंब्रियो के जरिए जन्म दिया गया था।अब भोपाल के मदरबुल फार्म में क्लोन तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा, इसके क्लोन हाइजेनिक मटेरियल (hygienic material) वाले बताए जा रहे हैं, इस तकनीक से पशु की नस्ल सुधार, गुणवत्ता और दूध उत्पादन क्षमता में बढ़ोतरी हो सकती है।