काले अंगूर की खेती : अंगूर की खेती कैसे करें, कर सकते है लाखो की कमाई. » Kisan Yojana » India's No.1 Agriculture Blog

काले अंगूर की खेती : अंगूर की खेती कैसे करें, कर सकते है लाखो की कमाई.

5/5 - (1 vote)

काले अंगूर की खेती

अंगूर का नाम सुनते ही सबके मुंह में पानी आ जाता है। इसका रसीला स्वाद लोगों को भाता है। यही नहीं अंगूूर खाने में स्वादिष्ट होने के साथ ही स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। इसके स्वाद और गुणों को देखते हुए इसकी मांग बाजार में अच्छी खासी होती है। वैसे तो कई रंग के अंगूर बाजार में आपको मिल जाएंगे लेकिन सबसे अधिक काले अंगूर की मांग बाजार में ज्यादा है। इसके पीछे कारण यह है कि यह अंगूर अपने रंंग के कारण तो लोगों को आकर्षित करता ही साथ ही इसके गुण साधारण अंगूर से कही ज्यादा होते हैं। तो अब आप भी काले अंगूर का बाग लगाकर करें लाखों की कमाई.

ऐसा माना जाता है कि काले अंगूर खाने से वजन कम होता है। इसके अलावा अंगूर का उपयोग शराब, जैम, जूस और जेली बनाने के लिए किया जाता है। इसके कारण काले अंगूर की मांग मंडी में काफी ज्यादा होती है। बड़े-बड़े मोल्स में जहां सब्जी व फल विक्रय होते है वहां काले अंगूर का रेट साधारण हरे अंगूरों से ज्यादा होता है। खुदरा रेट के साथ ही इसका थोक रेट भी अधिक है। यही कारण है कि काले अंगूर का उत्पादन हरे रंग के अंगूरों से अधिक फायदा देने वाला साबित हो रहा है। यदि इसका व्यवसायिक तरीके से उत्पादन किया जाए तो इससे लाखों रुपए की कमाई की जा सकती है। आइए जानते हैं आप किस प्रकार काले अंगूूर का बाग लगाकर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

देश में कहां – कहां होती है अंगूर का उत्पादन

नाशिक को भारत की अंगूर की राजधानी और देश से अंगूर के सबसे अच्छे निर्यात के रूप में जाना जाता है। वहीं महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, मिजोरम, पंजाब, हरियणा, मध्यप्रदेश, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश के प्रमुख उत्पादक राज्य हैं.

काले अंगूर की उन्नत किस्में

अरका श्याम : यह बंगलौर ब्लू और काला चंपा के बीच का क्रॉस है। इसकी बेरियां मध्यम लंबी, काली चमकदार, अंडाकार गोलाकार, बीजदार और हल्के स्वाद वाली होती है। यह किस्म एंथराकनोज के प्रति प्रतिरोधक है। यह टेबल उद्देश्य और शराब बनाने के लिए उपयुक्त है।

अरका नील मणि : यह ब्लैक चंपा और थॉम्पसन बीजरहित के बीच एक क्रॉस है। इसकी बेरियां काली बीजरहित, खस्ता लुगदी वाली और 20-22 प्रतिश टीएसएस की होती है। यह किस्म एंथराकनोज के प्रति सहिष्णु है। औसतन उपज 28 टन/हेक्टेयर है। यह शराब बनाने और तालिका उद्देश्य के लिए उपयुक्त है।

अरका कृष्णा : यह ब्लैक चंपा और थॉम्पसन बीजरहित के बीच एक क्रॉस है। इसकी बेरियां काले रंग, बीजरहित, अंडाकार गोल होती है और इसमें 20-21 प्रतिश टीएसएस होता है। औसतन उपज 33 टन/हेक्टेयर) है। यह किस्म जूस बनाने के लिए उपयुक्त है।

अरका राजसी : यह ‘अंगूर कलां और ब्लैक चंपा के बीच एक क्रॉस है। इसकी बेरियां गहरी भूरे रंग की, एकसमान, गोल, बीजदार होती है और इसमें 18-20त्न टीएसएस होता है। यह किस्म एनथराकनोज के प्रति सहिष्णु है। औसतन उपज 38 टन/हेक्टेयर है। इस किस्म की अच्छी निर्यात संभावनाएं है।

बंगलौर ब्लू : यह किस्म कर्नाटक में उगाई जाती है। बेरियां पतली त्वचा वाली छोटी आकार की, गहरे बैंगनी, अंडाकार और बीजदार वाली होती है। इसका रस बैंगनी रंग वाला, साफ और आनन्दमयी सुगंधित 16-18 प्रतिशत टीएसएस वाला होता है। फल अच्छी क्वालिटी का होता है और इसका उपयोग मुख्यत: जूस और शराब बनाने में होता है। यह एन्थराकनोज से प्रतिरोधी है लेकिन कोमल फफूदी के प्रति अतिसंवेदनशील है।

गुलाबी : यह किस्म तमिलनाडु में उगाई जाती है। इसकी बेरियां छोटे आकार वाली, गहरे बैंगनी, गोलाकार और बीजदार होती है। टीएसएस 18-20 प्रतिशत होता है। यह किस्म अच्छी क्वालिटी की होती है और इसका उपयोग टेबल प्रयोजन के लिए होता है। यह क्रेकिंग के प्रति संवदेनशील नहीं है परन्तु जंग और कोमल फंफूदी के प्रति अतिसंवेदनशील है। औसतन उपज 1012 टन/ हेक्टेयर है।

मिट्टी एवं जलवायु

अंगूर की जड़ की संरचना काफी मजबूत होती है। अत: यह कंकरीली, रेतीली से चिकनी तथा उथली से लेकर गहरी मिट्टियों में सफलतापूर्वक पनपता है लेकिन रेतीली, दोमट मिट्टी, जिसमें जल निकास अच्छा हो अंगूर की खेती के लिए उचित पाई गयी है। इसकी खेती के लिए गर्म, शुष्क, तथा दीर्घ ग्रीष्म ऋतु अनुकूल रहती है।

कलम द्वारा रोपण

अंगूर का प्रवर्धन मुख्यत: कटिंग कलम द्वारा होता है। जनवरी माह में काट छांट से निकली टहनियों से कलमेें ली जाती हैं। कलमें सदैव स्वस्थ एवं परिपक्व टहनियों से लिए जाने चाहिए। सामान्यत: 4 – 6 गांठों वाली 23 – 45 से.मी. लम्बी कलमें ली जाती हैं। कलम बनाते समय यह ध्यान रखें कि कलम का नीचे का कट गांठ के ठीक नीचे होना चाहिए एवं ऊपर का कट तिरछा होना चाहिए। इन कलमों को अच्छी प्रकार से तैयार की गई तथा सतह से ऊंची क्यारियों में लगा देते हैं। एक वर्ष पुरानी जडय़ुक्त कलमों को जनवरी माह में नर्सरी से निकल कर बगीचे में रोपित किया जा सकता है।

बेलों की रोपाई

रोपाई से पूर्व मिट्टी की जांच अवश्य करवा लें। बेल की बीच की दूरी किस्म विशेष एवं साधने की पद्धति पर निर्भर करती है। इन सभी चीजों को ध्यान में रख कर 90 & 90 से.मी. आकर के गड्डे खोदने के बाद उन्हें 1/2 भाग मिट्टी, 1/2 भाग गोबर की सड़ी हुई खाद एवं 30 ग्राम क्लोरिपाईरीफास, 1 कि.ग्रा. सुपर फास्फेट व 500 ग्राम पोटेशीयम सल्फेट आदि को अच्छी तरह मिलाकर भर दें। जनवरी माह में इन गड्डों में 1 साल पुरानी जड़वाली कलमों को लगा दें। बेल लगाने के तुंरत बाद पानी दें।

 

बेलों की सधाई एवं छंटाई

बेलों से लगातार अच्छी फसल लेने के लिए एवं उचित आकर देने के लिए साधना एवं काट – छांट करनी चाहिए। बेल को उचित आकर देने के लिए इसके अनचाहे भाग के काटने को साधना कहते हैं, एवं बेल में फल लगने वाली शाखाओं को सामान्य रूप से वितरण हेतु किसी भी हिस्से की छंटनी को छंटाई कहते हैं।

अंगूर की बेल साधना

अंगूर की बेल साधने हेतु पण्डाल, बाबर, टेलीफोन, निफिन एवं हैड आदि पद्धतियां प्रचलित हैं। लेकिन व्यवसायिक इतर पर पंडाल पद्धति ही अधिक उपयोगी साबित हुई है। पंडाल पद्धति द्वारा बेलों को साधने हेतु 2.1 – 2.5 मीटर ऊंचाई पर कंक्रीट के खंभों के सहारे लगी तारों के जाल पर बेलों को फैलाया जाता है। जाल तक पहुंचने के लिए केवल एक ही ताना बना दिया जाता है। तारों के जाल पर पहुंचने पर ताने को काट दिया जाता है ताकि पाश्र्व शाखाएँ उग आयें। उगी हुई प्राथमिक शाखाओं पर सभी दिशाओं में 60 सेमी दूसरी पाश्र्व शाखाओं के रूप में विकसित किया जाता है। इस तरह द्वितीयक शाखाओं से 8 – 10 तृतीयक शाखाएं विकसित होंगी इन्हीं शाखाओं पर फल लगते हैं।

बेलों की छंटाई

बेलों से लगातार एवं अच्छी फसल लेने के लिए उनकी उचित समय पर काट – छांट अति आवश्यक है। जब बेल सुसुप्त अवस्था में हो तो छंटाई की जा सकती है, परन्तु कोंपले फूटने से पहले प्रक्रिया पूरी हो जानी चाहिए। सामान्यत: काट – छांट जनवरी माह में की जाती है। छंटाई की प्रक्रिया में बेल के जिस भाग में फल लगें हों, उसके बढ़े हुए भाग को कुछ हद तक काट देते हैं। यह किस्म विशेष पर निर्भर करता है। किस्म के अनुसार कुछ स्पर को केवल एक अथवा दो आंख छोडक़र शेष को काट देना चाहिए। इन्हें रिनिवल स्पर कहते हैं। आमतौर पर जिन शाखाओं पर फल लग चुके हों उन्हें ही रिनिवल स्पर के रूप में रखते हैं। छंटाई करते समय रोगयुक्त एवं मुरझाई हुई शाखाओं को हटा दें एवं बेलों पर ब्लाईटोक्स 0.2 प्रतिशत का छिडक़ाव अवश्य करें।

आवश्यकतानुसार करें सिंचाई

नवंबर से दिसंबर माह तक सिंचाई की खास आवश्यकता नहीं होती क्योंकि बेल सुसुप्ता अवस्था में होती है लेकिन छंटाई के बाद सिंचाई आवश्यक होती है। फूल आने तथा पूरा फल बनने (मार्च से मई ) तक पानी की आवश्यकता होती है। क्योंकि इस दौरान पानी की कमी से उत्पादन एवं हुन्वात्ता दोनों पर बुरा असर पड़ता है। इस दौरान तापमान तथा पर्यावरण स्थितियों को ध्यान में रखते हुए 7 – 10 दिन के अंतराल पर सिंचाई करनी चाहिए। फल पकने की प्रक्रिया शुरू होते ही पानी बंद कर देना चाहिए नहीं तो फल फट एवं सड़ सकते हैं। फलों की तुडाई के बाद भी एक सिंचाई अवश्य कर देनी चाहिए।

खाद एवं उर्वरक की पौषक मात्रा जरूरी

अंगूर की बेल भूमि से काफी मात्र में पोषक तत्वों को ग्रहण करती है। अत: मिट्टी कि उर्वरता बनाए रखने के लिए एवं लगातार अच्छी गुणवत्ता वाली फसल लेने के लिए यह आवश्यक है की खाद और उर्वरकों द्वारा पोषक तत्वों की पूर्ति की जाए। पण्डाल पद्धति से साधी गई एवं 3 x 3 मी. की दूरी पर लगाई गयी अंगूर की 5 वर्ष की बेल में लगभग 500 ग्राम नाइट्रोजन, 700 ग्राम म्यूरेट ऑफ पोटाश, 700 ग्राम पोटेशियम सल्फेट एवं 50 – 60 कि.ग्रा. गोबर की खाद की आवश्यकता होती है। छंटाई के तुंरत बाद जनवरी के अंतिम सप्ताह में नाइट्रोजन एवं पोटाश की आधी मात्र एवं फास्फोरस की सारी मात्र दाल देनी चाहिए। शेष मात्र फल लगने के बाद दें। खाद एवं उर्वरकों को अच्छी तरह मिट्टी में मिलाने के बाद तुंरत सिंचाई करें। खाद को मुख्य तने से दूर 15-20 सेमी गहराई पर डालें।

अंगूर की खेती के लिए जलवायु

किसान भाई परंपरागत खेती को छोडक़र वैकल्पिक खेती को अपना रहे हैं। अगर आप अंगूर की खेती करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको जलवायु के बारे में पता होना चाहिए। अंगूर की खेती के लिए गर्म, शुष्क, तथा दीर्घ ग्रीष्म ऋतु सबसे अनुकूल रहती है। लेकिन बहुत अधिक तापमान हानि पहुंचा सकता है। अधिक तापमान के साथ अधिक आद्रता होने से रोग लग जाते है। जलवायु का फल के विकास तथा पके हुए अंगूर की बनावट और गुणों पर काफी असर पड़ता है। अंगूर के पकते समय बारिश या आसमान में बादल का होना बहुत ही हानिकारक है, इससे फल फट जाते हैं और फलों की गुणवत्ता पर बहुत बुरा असर पड़ता है। इसलिए उत्तर भारत में जल्दी पकने वाली किस्मों की सिफारिश की जाती है।

अंगूर की खेती के लिए भूमि का चयन

अंगूर की खेती या बागवानी कम से कम 4-5 हैक्टेयर भूमि होनी चाहिए। अंगूर की खेती  विभिन्न प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है। अंगूर की जड़ की संरचना काफी मजबूत होती है। अत: यह कंकरीली, रेतीली से चिकनी तथा उथली से लेकर गहरी मिट्टियों में सफलतापूर्वक पनपता है, लेकिन रेतीली, दोमट मिट्टी, जिसमें जल निकास अच्छा हो अंगूर की खेती के लिए उत्तम पाई गयी है। अधिक चिकनी मिट्टी में इसकी खेती न करे तो बेहतर है। अंगूर लवणता के प्रति कुछ हद तक सहनशील है

Source by – tractorjunction

  social whatsapp circle 512WhatsApp Group Join Now
2503px Google News icon.svgGoogle News  Join Now
Spread the love