अंगूर की खेती: इस तरीके से अंगूर की खेती कर कमाएं लाखों का मुनाफा, जाने खेती का तरीका

Grapes Farming: इस सरल तरीके से अंगूर की खेती करके कमा सकते लाखो रुपये, अंगूर की खेती से होगी तगड़ी कमाई, जानिए खेती करने का आसान तरीका। अंगूर की खेती भारत में सबसे अधिक मांग वाला एक कृषि व्यवसाय है। अंगूर दुनिया में सबसे लोकप्रिय फल माना जाता है। अंगूर का सेवन शरीर को सेहतमंद बनता है। अंगूर गर्मियों में सबसे अधिक मांग वाले फल होते हैं क्योंकि यह रसदार और स्वास्थ्यवर्धक होते हैं। आइये जानते है कैसे आसानी से करे अंगूर की खेती।

इन राज्यों में होती सबसे ज्यादा अंगूर की खेती

आपकी जानकारी के लिए बता दे भारत में अंगूर लगभग 40,000 हेक्टेयर में उत्पादन किया जाता है। जिसमें मुख्य रूप से महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु राज्य है। भारत में महाराष्ट्र प्रमुख राज्य है जहां अंगूर सबसे अधिक खेती की जाती है। अंगूर उगाना भारत में सबसे अधिक लाभकारी खेती है। भारत में आम तौर पर अंगूर अक्टूबर से जनवरी तक उगाए जाते हैं। गर्मी अंगूर का मौसम है क्योंकि यह मौसम भारत में अंगूर उत्पादन के लिए अनुकूल होता है। जानिए कैसे करे अंगूर की खेती।

आपको बताते है अंगूर की खेती के लिए किस मिटटी का इस्तेमाल करके आप अंगूर की अच्छी पैदावार कर सकते है। अंगूर के फलो की अच्छी पैदावार के लिए इसे कंकरीली और रेतीली चिकनी मिट्टी में उगाना चाहिए। अंगूर की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली भूमि की आवश्यकता होती है। इसकी फसल कुछ हद तक खारापन सहन कर सकता है, तथा भूमि में अधिक खारापन इसकी पैदावार के लिए अच्छा नहीं होता है। अंगूर की खेती करके आप अधिक से अधिक मुनाफा कमा सकते है। अंगूर की खेती के लिए तापमान कैसा होना चाहिए।

अंगूर की खेती के लिए ऐसा होना चाहिए तामपान

आपकी जानकारी के लिए बता दे अंगूर की खेती के लिए सामान्य तापमान की आवश्यकता होती है। अंगूर की खेती के लिए गर्म, शुष्क, तथा अधिक गर्म जलवायु इसके फलो के लिए उपयुक्त होता है। अंगूर के फलो के वृद्धि के समय वर्षा इसके फलो को अधिक प्रभावित करती है, उस दौरान इसके दानो के फट जाने का खतरा होता है। अंगूर की खेती करके आप भी लाखो रुपये की कमाई कर सकते है।

अंगूर की खेती के लिए उन्नत किस्मो का करे इस्तेमाल

अंगूर की खेती के लिए किन किस्मो को चुनकर आप अधिक से अधिक उत्पादन करके मालामाल बन सकते है। अंगूर की किस्मों की सूची में पहली किस्म थॉम्पसन सीडलेस है। यह हल्के हरे अंडाकार आकार के अंगूर भारत में असाधारण रूप से आम हैं। अंगूर की दूसरी किस्म बैंगलोर ब्लू है। थॉम्पसन सीडलेस किस्म के अलावा, बैंगलोर ब्लू लोगों के बीच प्रसिद्ध है। इस किस्म की खेती कर्नाटक राज्य में व्यापक रूप से की जाती है।

अंगूर की इन किस्मों की करें खेती

इसके अलावा अंगूर की खेती के लिए तीसरी किस्म अनाब-ए-शाही है। इस किस्म के अंगूरों का सेवन कच्चा और रस के रूप में किया जाता है। अनाब-ए-शाही अंगूर भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश, पंजाब, तमिलनाडु, हरियाणा आदि में उगाए जाते हैं। इस फल के बीज और छिलके में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखते हैं। इसके अलावा अंगूर की किस्म दिलखुश अंगूर भी है। इस अंगूर की किस्म को सुल्ताना अंगूर की तरह अनाब-ए-शाही का क्लोन माना जाता है। दिलखुश अंगूर का स्वाद तीखा होता है। इसके साथ ही अंगूर .की खेती के लिए एक और किस्म शरद बीज रहित भी है। अंगूर की यह किस्म काले और बैंगनी रंगों में उपलब्ध है। इसमें अच्छी मिठास होती है और यह चमकीले रंगों में उपलब्ध होती है।

अंगूर के सेवन से ये बीमारिया होती दूर

अंगूर के सेवन से कई सारी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। अंगूर में विटामिन सी और के जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। अंगूर के उच्च एंटीऑक्सीडेंट के साथ पुराने रोगों की रोकथाम की क्षमता होती है। अंगूर के पौधे कैंसर से बचाते हैं। हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। कोलेस्ट्रॉल को घटाता है। रक्त क्त शर्करा के स्तर को कम करता है। मधुमेह से बचाव करते हैं।