अलसी की खेती:- अलसी की आधुनिक खेती के लिए भूमि चुनाव, तैयारी एवं भूमि उपचार के तरीके देखिए

अलसी की आधुनिक खेती: बहुउद्देशीय फसल होने के चलते देश में आजकल अलसी की मांग काफी बढ़ी है | अलसी बहुमूल्य तिलहन फसल है जिसका उपयोग कई उद्योगों के साथ दवाइयां बनाने में भी किया जाता है। अलसी के प्रत्येक भाग का प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से विभिन्न रूपों में उपयोग किया जा सकता है । अलसी के बीज से निकलने वाला तेल प्रायः खाने के रूप में उपयोग में नही लिया जाता है बल्कि दवाइयाँ बनाने में होता है। इसके तेल का पेंट्स, वार्निश व स्नेहक बनाने के साथ पैड इंक तथा प्रेस प्रिटिंग हेतु स्याही तैयार करने में उपयोग किया जाता है। इसका बीज फोड़ों फुन्सी में पुल्टिस बनाकर प्रयोग किया जाता है।

अलसी की खेती:- अलसी की आधुनिक खेती के लिए भूमि चुनाव, तैयारी एवं भूमि उपचार के तरीके देखिए

अलसी के फायदे: अलसी के तने से उच्च गुणवत्ता वाला रेशा प्राप्त किया जाता है व रेशे से लिनेन तैयार किया जाता है। अलसी की खली दूध देने वाले जानवरों के लिये पशु आहार के रूप में उपयोग की जाती है तथा खली में विभिन्न पौध पौषक तत्वों की उचित मात्रा होने के कारण इसका उपयोग खाद के रूप में किया जाता है। अलसी के पौधे का काष्ठीय भाग तथा छोटे-छोटे रेशों का प्रयोग कागज बनाने हेतु किया जाता है। अलसी के अधिक उत्पादन के लिए किसानों को खेती करते समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए:-

Kisan News:- Kisan News: कम खर्च में अधिक पैदावार के लिए ऐसे करें जौ की खेती, बाजार में मिलेगा इतना भाव

अलसी की खेती के लिए भूमि का चुनाव एवं तैयारी: अलसी की फसल के लिये काली भारी एवं दोमट (मटियार) मिट्टियाँ उपयुक्त होती हैं। अधिक उपजाऊ मृदाओं की अपेक्षा मध्यम उपजाऊ मृदायें अच्छी समझी जाती हैं। भूमि में उचित जल निकास का प्रबंध होना चाहिए । आधुनिक संकल्पना के अनुसार उचित जल एवं उर्वरक व्यवस्था करने पर किसी भी प्रकार की मिट्टी में अलसी की खेती सफलता पूर्वक की जा सकती है। अच्छा अंकुरण प्राप्त करने के लिये खेत भुरभुरा एवं खरपतवार रहित होना चाहिये । अतः खेत को 2-3 बार हैरो चलाकर पाटा लगाना आवश्यक है जिससे नमी संरक्षित रह सके । अलसी का दाना छोटा एवं महीन होता है, अतः अच्छे अंकुरण हेतु खेत का भुरभुरा होना अतिआवश्यक है ।

kisan News:- अनाज मंडी भाव: जिंसो में आई तेजी, देखें सरसों, नरमा, तिल,ग्वार, मूंग और कपास के ताजा मंडी भाव

भूमि उपचार : भूमि जनित एवं बीज जनित रोगों के नियंत्रण हेतु बयोपेस्टीसाइड (जैव कवक नाशी) ट्राइकोडरमा विरिडी 1 प्रतिशत डब्लू.पी. अथवा ट्राइकोडरमा हारजिएनम 2 प्रतिशत डब्लू.पी. 2.5 किग्रा. प्रति हे. 60-75 किग्रा. सड़ी हुए गोबर की खाद में मिलाकर हल्के पानी का छीटा देकर 8-10 दिन तक छाया में रखने के उपरान्त बुआई के पूर्व आखिरी जुताई पर भूमि में मिला देने से अलसी के बीज / भूमि जनित रोगों के प्रबन्धन में सहायक होता है |

आज के इंदौर मंडी भाव ( Indore Mandi Bhav Today )

Leave a Comment