समर्थन मूल्य पर 1 अप्रैल से 135 केंद्रों पर शुरू होगी गेहूं की खरीदी, किसानों को यह काम करना होगा जरूरी

यूपी सरकार द्वारा गेहूं खरीद वर्ष 2023-24 के लिये गेहूं का समर्थन मूल्य घोषित किया जा चुका है। इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा जिले में गेहूं खरीद की तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं।

यूपी सरकार द्वारा गेहूं खरीद वर्ष 2023-24 के लिये गेहूं का समर्थन मूल्य घोषित किया जा चुका है। इसके बाद जिला प्रशासन द्वारा जिले में गेहूं खरीद की तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं। इन दिनों क्रय केंद्र निर्धारण की प्रकिया चल रही है। क्रय केंद्र निर्धारण प्रकिया 20 मार्च तक पूरी कर ली जायेगी और एक अप्रैल से गेहूं खरीद होगी। वहीं किसानों ने गेहूं तौल कराने के लिए अभी से पंजीकरण शुरू कर दिए हैं। जिससे गेहूं तौल कराने को पहले नंबर आ सके।

जिले में एक अप्रैल से सरकारी क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद शुरू कराने की तैयारियां चल रही हैं। शासन से जारी आदेश में गेहूं खरीद से जुड़े अफसरों से कहा कि जल्द क्रय केंद्रों का निर्धारण कर गेहूं खरीद से जुड़ी सभी तैयारियां पूरी कर लें। एक अप्रैल से लेकर 15 जून तक गेहूं खरीद सरकारी क्रय केंद्रों पर की जायेगी। शासन से आदेश जारी होने के बाद स्थानीय स्तर पर अधिकारियों ने क्रय केंद्र निर्धारण प्रकिया तेज कर दी है।

सहकारिता के क्रय केंद्रों का निर्धारण तय हो चुका है। इस बार सहकारिता के 54 केंद्रों पर गेहूं खरीद होगी, 12 केंद्र और खुलने का रास्ता साफ हो चुका है। कुल अब तक 64 क्रय केंद्र निर्धारित हो चुके हैं। जिनके प्रस्तावों पर अनुमोदन दे दिया है। गेहूं खरीद के लिए सात एजेंसियां नामित हैं जिनके क्रय केंद्र संचालित किए जाएंगे। जिले भर में कुल 135 क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद होगी। बतादें कि इस बार सरकार ने गेहूं खरीद के लिए समर्थन मूल्य 110 रुपये बढ़ा दिया है। जिसके बाद समर्थन मूल्य 2125 रुपये प्रति क्विंटल घोषित किया जा चुका है।

गेहूं बिक्री के लिये कराना होगा पंजीकरण

सरकार की समर्थन मूल्य योजना के तहत गेहूं बिक्री करने के लिए किसानों को पंजीकरण कराना होगा। सरकारी क्रय केंद्रों पर गेहूं बिक्री के लिये fcs.up.nic.in ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा। ऐसा इसलिये किया जा रहा है जिससे किसान के लिये क्रय केंद्र पर पहुंचने के बाद किसी प्रकार की दिक्कत न हो। अधिकारियों के अनुसार जिले में अब पंजीकरण शुरू हो चुके हैं और अब तक करीब 32 किसानों ने पंजीकरण करा भी दिया है।

पंजीकरण को ये जरूरी

किसान के लिये पंजीकरण के दौरान आधार कार्ड, खतौनी, मोबाइल नंबर, बैंक एकाउंट की पासबुक की जरूरत होगी। किसान के लिये बैंक एकाउंट वह देना है जो कि आधार से लिंक हो एवं एनपीसीआई से लिंक भी होना अनिवार्य है।

टोल फ्री नंबर हुएं जारी

सरकार ने गेहूं किसानों के लिये गेहूं बिक्री के दौरान अगर किसी प्रकार की दिक्कत आती है तो शिकायत दर्ज कराने के लिये टोल फ्री नंबर जारी किया है। किसान 1800-1800-150 टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं। जल्द ही प्रशासन की ओर से भी कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा।डिप्टी आरएमओ अतुल कुमार वशिष्ठ ने बताया, जनपद में एक अप्रैल से खरीद शुरू होगी। केंद्र निर्धारण का कार्य चल रहा है अब तक 64 केंद्र निर्धारित किए गए हैं बाकी जल्द ही घोषित कर दिए जाएंगे। किसानों की पंजीकरण व्यवस्था शुरू हो चुकी है। किसान पंजीकरण कराएं, सरकार ने गेहूं समर्थन मूल्य में बढ़ोत्तरी की है।